भारत ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात को दी मंजूरी, अमेरिकी राष्ट्रपति ने नरेंद्र मोदी को धन्यवाद कहा

आखिर भारत ने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के अमेरिका को निर्यात की मंजूरी दे दी है, भारत सरकार का ये फैसला अमेरिकी रस्त्रपरी डोनाल्ड ट्रम्प के हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा ने निर्यात का अनुरोध करने के बाद आया है।

कोरॉना संकट से आज संपूर्ण विश्व जूझ रहा है और अलग-अलग देश अपने नागरिकों के लिए अलग अलग तरीके से लॉक-डाउन, जगहों पर सहरों को सील करना,  आइसोलेट करने जैसी कार्रवाई करके उसे रोकने की कोशिश कर रहे हैं।


परंतु जैसा कि हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की जो कि मलेरिया की दवा है और कारोना कि इस बीमारी में कारगर है,  हाल ही में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप में भारत से इस हाइड्रॉक्सी-क्लोरोक्वीन के नाम की दवा की मांग की थी। उन्होंने जिस तरह से यह बात कही थी, इसे एक प्रकार की  धमकी भी माना जा रहा था, लेकिन उन्होंने कहा था कि अगर भारत हमें यह दवा उपलब्ध नहीं कराता है तो हम जवाबी कार्रवाई करेंगे।


परंतु फिलहाल भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के फैसले से इस बात का कोई खास नतीजा नहीं निकला।
भारत में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की दवा अमेरिका को निर्यात करने के लिए मंजूरी दे दी गई है, जिसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी और भारत वासियों को धन्यवाद किया है।

hydroxychloroquine
हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि “मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का धन्यवाद करना चाहता हूं जिन्होंने हमारे अनुरोध को मंजूरी दे दी है,वह बड़े दिलवाले हैं, हम इस मदद को हमेशा याद रखेंगे। आगे इसमें उन्होंने जोड़ते हुए कहा कि इस चुनौतीपूर्ण समय में दोस्तों के बीच करीबी सहयोग की जरूरत होती है हम हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन देने के फैसले के लिए भारत और भारत के लोगों का धन्यवाद करते हैं हम इसे कभी नहीं भूलेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति प्रधानमंत्री मोदी का शुक्रिया करते हुए कहा कि आपके मजबूत नेतृत्व में से भारत बल्कि चुनौती से लड़ रही मानवता को भी मदद मिलेगी।

ये भी पड़ें: सिजोफ्रेनिया का घरेलू उपचार, लक्षण एवं प्रकार

दवा सप्लाई ना करने पर जवाबी कार्रवाई करने की दी थी धमकी

इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि भारत दवा देता है तो ठीक, अगर नहीं देता है तो हम जवाबी कार्रवाई करेंगे। हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा मलेरिया के लिए होता है जिसका भारत प्रमुख निर्यातक रहा है।
डोनाल्ड ट्रंप ने आगे कहा के इस संबंध में हमने नरेंद्र मोदी से बात की है और उन्होंने हमारी दवा हाइड्रॉक्सी-क्लोरोक्वीन के लिए सप्लाई को अनुमति दे दी है इसकी हम सराहना करते हैं

भारत ने भी दिया था जवाब

कॉरॉना संकट से गिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के विरोध के बाद भारत ने कहा था कि एक जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, हम अपनेसे जितना हो सकेगा पूरी मदद करेंगे। भारत ने अमेरिका को भी बताया था कि हम अपने 1.30 अरब की आबादी को इस महामारी से सुरक्षित करने और उनके लिए दवा का इंतजाम करने के बाद ही हम आपकी मदद कर पाएंगे। फिलहाल नई जानकारी मिलने तक भारत में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की दवा के निर्यात से रोक हटा दिया है और यह दवा अमेरिका को सप्लाई की जाएगी

Leave a Reply