कोरोना प्रभाव: लॉकडॉउन कि वजह से पृथ्वी ने खुद को पुनर्जीवित करना शुरू कर दिया है

कोरोना प्रभाव: करोना संक्रमण की वजह से लोग अपने घरों में बंद है,ओर इस कोरोना नामक महामारी ने पूरे विश्व पटल पर इंसानी जिंदगियां और अन्य तरह की चीजे भी बुरी तरह प्रभावित कि है। कई देशों कि अर्थ्यवस्थाओं पे गहरा आघात पड़ा है, लोग घरों में बंद है, उद्योग धंधे बंद पड़े है, लोग अपने घरों और परिजनों से दूर लॉक हैं। पूरे विश्व की कई बड़े बड़े देशों में बड़े स्तर पर लॉकडाउन किया गया है।

इस बीच पृथ्वी ने खुद को पुनर्जीवित करना शुरू कर दिया है। हम आपको बता रहे हैं पूरी धरती पर कहां-कहां क्या-क्या बदलाव आए हैं जब मनुष्य ने लॉकडाउन की वजह से घर से निकलना बंद कर दिया है।
कोरोना संक्रमण को फैले हुए महीनों बीत चुके हैं और महीनों में लोग अपने घरों में बंद है ऐसा केस महामारी में पूरे विश्व को प्रभावित किया है जिसमें से सबसे ज्यादा प्रभावित देश इटली, अमेरिका,ईरान और चाइना है इसके अलावा भी कई देश है जो अत्यधिक प्रभावित देशों की सूची में है

कोरोना प्रभाव: इटली में वेनिस शहर हुआ साफ

 कोरोना प्रभाव
इटली
इटली का वेनिस शहर


विश्व के सबसे खूबसूरत देशों में शामिल इटली का वेनिस शहर आजकल बहुत ही साफ-सुथरा और स्वच्छ हो गया है वहां की नदी में सफेद हंस करते हुए पाए जा सकते हैं कुछ बुजुर्ग लोगों का यह भी कहना है कि उन्होंने पिछले 50 सालों में इतना साफ पानी नहीं देखा। मनुष्य ने बाहर निकलना बंद कर दिया है औद्योगिक इकाइयां ठप पड़ी है, प्रदूषण की समस्या पहले से थोड़ी कम हो गई है जिसने यह फर्क डाला है

कोरोना प्रभाव: केरल के समुद्र तट पर आए लाखों कछुए

कोरोना प्रभाव
केरल
भारत के केरल तट पर कछुवे


भारत में केरल में अचानक से 300000 कछुए समुद्र तल पर आ गए, जहां उन्होंने बड़ी संख्या में अंडे दिया। इसके पीछे यही एक कारण है कि कछुओं ने खुद को समुद्री सतह पर अब ज्यादा सुरक्षित महसूस किया होगा क्योंकि वहां कोई इंसान नहीं है जो उनकी जान ले सके।

कोरोना प्रभाव: यमुना नदी हुई साफ

कोरोना प्रभाव यमुना नदी
यमुना नदी का स्वक्छ पानी

यमुना नदी का पानी जो जो कि सबसे ज्यादा प्रदूषित माना जाता है और इसका पानी भी देखने में एकदम काला है। लेकिन पिछले लगभग 10 से 15 दिनों के लॉक डाउन की वजह से यमुना नदी का पानी अब नीला होना शुरू हो गया है। यहां तक कि कुछ लोग इससे आचमन भी करना शुरू कर दिए हैं। अगर आप ने यमुना नदी का पानी देखा होगा तो आपको इस बात का अंदाजा होगा के यमुना नदी इतनी गन्दी हैं के कोई इसे छूना भी पसंद नहीं करता। लेकिन आज स्थिति दूसरी है, पानी के कलर में और स्वच्छता में आया यह बदलाव वायरस की वजह से किया गया लॉक डाउन ही है, क्योंकि उद्योग धंधों के बंद होने की वजह से बहुत ही कम मात्रा में, गंदे पानी अब यमुना में जा रहा है।

कोरोना प्रभाव: जालंधर से दिखने लगे हैं हिमालय पर्वत की धौलाधार रेंज के पहाड़

कोरोना प्रभाव हिमालय पर्वत
जालंधर से दिखने लगे हैं हिमालय पर्वत

पंजाब में हवा की स्वक्षता के स्‍तर में जबरदस्‍त सुधार देखने को मिला है. राज्‍य के ज्‍यादातर शहर खुद-ब-खुद ग्रीन जोन में आ गए हैं जिसकी वजह से हिमाचल प्रदेश में हिमालय पर्वत की धौलाधार रेंज के पहाड़ जालंधर से दिखने लगे हैं। ऐसा शायद सालों में पहली बार हुआ है.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here