(Akshaya Tritiya) अक्षय तृतीया 2020: कब, क्यों और कैसे मनाया जाता है

0
88
akshaya tritiya 2020 hindi

अक्षय तृतीया या आखा तीज वैशाख मास में शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को कहते हैं। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं उसका अक्षय फल, फल मिलता है, जिसकी वजह से इसे अक्षय तृतीया कहते हैं।

अक्षय तृतीया का महत्व

शास्त्रों में अक्षय तृतीया का बड़ा महत्व है धार्मिक दृष्टि से कभी क्षय न होने वाली यह तिथि वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है। इस वर्ष अक्षय तृतीया तिथि पर्व 26 अप्रैल, रविवार को होगा हालाकि इस समय देश में लॉक डाउन के चलते कोई विशेष खरीदारी नहीं हो पाएगी लेकिन घर पर पूजा की विधि और दान पुण्य से त्योहार को सुखमय बनाया जा सकता है। वैसे भी इस साल अक्षय तृतीया पर कई शुभ योग बनने से यह पर्व और भी अधिक लाभकारी होगा। आज आपको बताएँगे की लॉक डाउन में कैसे मनाये अक्षय तृतीया और साथ ही जानेगे वो उपाय जो आपको धनवान बना सकते है।

(Akshaya Tritiya) अक्षय तृतीया कब है: तिथि शुभ मुहुर्त

  • साल 2020 में अक्षय तृतीया का पर्व 26 अप्रैल रविवार के दिन मनाया जाएगा।
  • अक्षय तृतीया पूजा का मुहूर्त होगा – 26 अप्रैल शनिवार प्रातःकाल 05:48 मिनट दोपहर 2:19 मिनट तक।
  • पूजा की कुल अवधि होगी – 06 घंटे 34 मिनट की होगी।
  • तृतीया तिथि प्रारंभ होगी – 25 अप्रैल शनिवार प्रात:काल 11:51 मिनट पर।
  • तृतीया तिथि समाप्त होगी – 26 अप्रैल रविवार सायंकाल 1:22 मिनट पर।
  • सोना खरीदने का शुभ समय होगा – 26 अप्रैल रविवार पात:काल 11:51 मिनट से 05:45 मिनट तक।
  • मुहूर्त की कुल अवधि- 17 घंटे 53 मिनट की होगी ।

अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) को क्या दान करें

अक्षय तृतीया पर दान का बहुत महत्व है शास्त्रों में इस दिन जल का कोई पात्र यानी बरतन जैसे गिलास लोटा, घड़े का दान करना शुभ माना जाता है। गर्मी के मौसम में जल से जुड़ी शीतल चीजों का दान महत्वपूर्ण बताया गया है। इसके अलावा आज के दिन गुड़ या मीठी रोटी बनाकर भी गाय को खिला सकते हैं। अक्षय तृतीया रविवार को है ऐसे में सूर्य को बलवान बनाने के उपाय भी कर सकते है। आज किसी जरूरतमंद को चावल, आटा या कोई अन्य अनाज और कॉपी, कलम दान दे सकते हैं।

ये भी पढ़ें: Parshuram Jayanti 2020: के बारे में जानिए

लॉक डाउन में ऐसे करें अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) पूजा

इस बार अक्षय तृतीया लॉकडाउन के चलते अप बाहर तो नहीं जा सकेंगे, इसीलिए घर के सभी स्वर्ण आभूषणों या कोरे सामान को कच्चे दूध और गंगाजल से स्वच्छा करले और उन्हें एक लाल कपड़े पर रखकर, कुमकुमसे उनका पूजन करे। पूजन करते समय उन पर लाल फूल चढ़ाएं या फिर गेहूं भगवान विष्णु के चरणों में रखकर उनकी पूजा करें। इसके बाद इस गेहूं को लाल वस्त्र में लपेटकर तिजोरी में रख दे। गेहूं को कनक अर्थात सोने के समान माना गया है। इसीलिए आज के दिन इनकी पूजा करने से कई शुभ फल प्राप्त होते है।

अक्षय तृतीया पर धन प्राप्ति के उपाय

अक्षय तृतीया धन प्राप्ति

अक्षय तृतीया पर सोना खरीदने की परंपरा बहुत ही शुभ माना जाता है। इस वर्ष सोना खरीदने के लिए लॉकडाउन के कारण आप घर से बाहर तो आप नहीं जा सकेंगे, इसीलिए आप धन की बचत और धनलाभ के लिए ये उपाय कर सकते है। इस दिन महालक्ष्मी के मंत्र और “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का 108 बार जाप करें। माता लक्ष्मीजी को चावलों की मीठी खीर का भोग लगाए। अपने धन रखने के स्थान पर पीले कपड़े में हल्दी की गांठे लपेट कर भी रख सकते हैं, पर सोने की चीजों पर थोड़ी सी हल्दी और अक्षत डाल दें। मान्यता है की इस तरह इन उपायों को करने से धन लाभ होता है।

अक्षय तृतीया 2020 विवाह मुहूर्त

अक्षय तृतीया वर्ष 2020 मे 26 अप्रैल को दोपहर 01:22 बजे से प्रारंभ हो रहा है, और 27 अप्रैल को दोपहर 02:29 बजे तक खत्म हो रहा है। अक्षय तृतीया को स्वयं सिद्ध मुहूर्त के रूप में जाना जाता है, इसका मतलब ये है के ये खुद मे एक महत्वपूर्ण एवं शुभ मुहूर्त है । अतः इस दिन को बिना किसी सोंच विचार किए एवं किसी पंचांग के बिना भी कोई भी मांगलिक कार्य जैसे विवाह, गृह प्रवेश, घर, भूखंड या वाहन आदि की खरीदारी एवं अन्य शुभ कार्य किया जा सकता है।. धर्म शास्त्रों के अनुसार माता पार्वती, धर्मराज को इस तिथि का महत्व समझाती हैं, एवं कहती हैं के कोई भी स्त्री, जो किसी भी तरह का सुख की कामना करती है, उसे यह व्रत करते हुए नमक का त्याग करना चाहिए, मैं खुद भी ये बरत करती हूँ। अक्षय तृतीया पर विवाह का शुभ मुहूर्त 26 अप्रैल को दिन में 03 बजकर 14 मिनट से शुरु हो रहा है एवं रात्री में 10 बजकर 02 बजे से शुरु हो रहा है.

Leave a Reply